दुनियाभर में शादी को लेकर अलग-अलग तरह की परंपराएं निभाई जाती हैं.  जब भी आप किसी शादी में जाते होंगे, तो आपको वहां अलग-अलग तरह की परंपराएं और रिवाज देखने को मिलते हैं, जिनको देखने के बाद आपको उन परंपराओं पर विश्वास नहीं होता होगा, लेकिन आज आपको एक ऐसी परंपरा के बारे में बताने जा रहे हैं जिसको सुनकर आपको होश भी उड़ सकते हैं.

दरअसल देव भूमि कहे जाने वाले हिमाचल प्रदेश के मणिकर्ण घाटी में पीणी गांव में शादी के बाद लड़की को 5 दिन तक निर्वस्त्र रखा जाता है. इसके अलावा शादी के बाद दुल्हन को अजीब नियमों का भी पालन करना पड़ता है जिनके तहत नई दुल्हन को 5 दिन तक बस ऊन से बने पट्टू  को पहनना होता है.

इन 5 दिनों में पति-पत्नी ना एक दूसरे से बात कर सकते हैं और ना एक दूसरे को छू सकते हैं, यहां तक कि वो एक-दूसरे से हंसकर बात भी नहीं कर सकते. इस दौरान गांव का कोई भी आदमी शराब नहीं पी सकता. सालों से निभाई जा रही इस परंपरा को अभी भी गांव की नई पीढ़ी द्वारा निभाया जा रहा है. सावन के महीने के इन 5 दिनों में पति-पत्नी को अलग रहना होता है, क्योंकि इसको तबाही से जोड़कर देखा जाता है.

इस परंपरा के पीछे एक कहानी बहुत प्रचलित है कहा जाता है कि लाहुआ घोंड देवता जब पीणी पहुंचे थे, तब वहां राक्षसों का बहुत ज्यादा आतंक था, भादों सक्रांति को यहां काला महीना कहा जाता है. इसी दिन देवी-देवताओं ने पीणी में कदम रखा था जिसके बाद राक्षसों का खात्मा हो गया है.उसी समय से इस प्रथा की शुरुआत हुई थी जो आज तक निभाई जा रही हैं.

SHARE