सबका साथ सबका विकास का नारा देने वाली बीजेपी के ऊपर हमेशा आरोप लगते रहे हैं कि वो एक धर्म विशेष की राजनीति करती रही है और, उस धर्म के लोगो में डर पैदा कर वोट लेने का काम करती रही है. लेकिन असल मायने में सबका साथ सबका विकास अगर देखना है और समझना तो ये वीडियो आपको जरूर देखना चाहिए. बता दें कि ये वीडियो राहुल गाँधी की एक रैली का है. इस वीडियो में उन्होंने दिखाया कि हर धर्म के लिए उनके दिल में कितना सम्मान है. अक्सर कहा जाता है कि राहुल गाँधी मुस्लिम वोटों की राजनीति करते हैं लेकिन सच कहिये किसी धर्म के लिए दिल में सम्मान रखना वोट बैंक की राजनीति करना नही होता है.

महाराष्ट्र में हो रही इस रैली में राहुल गाँधी अपनी बात रख रहे थे और सामने उन्हें सुनने के लिए जनता थी, मंच पर कुछ और नेता बैठे हुए थी कि अचानक अज़ान होने लगी, अज़ान की आवाज सुनते ही राहुल गाँधी ने अपना भाषण बंद कर दिया. जब उन्होंने अपना भाषण बंद किया तो मंच पर बैठे के एक नेता ने इशारा किया कि आप अपना भाषण आगे बढ़ाइए लेकिन राहुल गाँधी ने इस्लाम के प्रति अपनी श्रद्धा दिखाते हुए अपना भाषण रोके रखा.

वीडियो में आप आसानी से देख सकते हैं कि राहुल गाँधी किसानों के मुद्दे पर सरकार को घेर रहे थे और कर्ज माफ़ी की बात कर रहे हैं लेकिन तभी अचानक उन्हें अज़ान की आवाज सुने देती है और उन्होंने अज़ान को तरजीह देते हुए अपनी बात बंद कर दी. भारत जैसे धर्म निरपेक्ष देश में ये वीडियो उन लोगों को जोरदार तमाचा है जो धर्म विशेष की राजनीति करते हैं और सांप्रदायिक ताकतों को मजबूत करते हैं. राहुल गाँधी को पप्पू कहने वालों को शायद इस वीडियो के जरिये तगड़ा जवाब मिल जायेगा.

वीडियो